Category Archives: Hindi

बभनान से बैंकाक और अयोध्या से अयुथया तक

अयुथया? ये कहाँ है थाईलैंड में? जहाज में बगल बैठे ‘टूरिस्ट’ से ये सवाल न भी सुना होता दरअसल तो भी आश्चर्य नहीं होता। रोज हिंदुस्तान से थाईलैंड आने वाले हजारों लोगों में से कितने जानते होंगे ऐसे कस्बों का नाम- भले ही वो फिर बैंकाक से सिर्फ 80 किलोमीटर दूर क्यों न हो. एक तो अपनी तरफ अमूमन थाईलैंड जाने का मतलब बैंकाक और पटाया (स्थानीय अंदाज में पतइया) जाना होता है, और वह भी खास वजहों से. दूसरे माज़ी से, इतिहास से हमारा रिश्ता कभी बहुत करीब का नहीं रहा- इस कदर कि हम अपनी पर आ जाएँ तो सिकंदर को गंगा तट पर हरा भी सकते हैं और भगत सिंह को काला पानी भी भेज सकते हैं!

बखैर- अयुथया बोले तो फ्र नखोन सी अयुथया। अयुथया! यूनेस्को से प्रमाणित विश्व धरोहर शहर.
थाईलैंड का सिमरीप – थाईलैंड का अंगकोर वाट. अच्छा ठीक है- उस स्तर पर भव्य नहीं, उतना पुराना भी नहीं और उतना संरक्षित भी नहीं- पर फिर जाएगा तो उसी के करीब जाएगा।  दर्जनों भव्य मंदिर, असल में वाट, एक बड़ा सा चर्च और मस्जिद वाला कस्बाई सा शहर अद्भुत है- और भी अद्भुत अगर आप चारो तरफ से नदी से घिरे इस शहर में उतरती शाम को नाव से देखें- मंदिरों पर बरसती सुनहली किरणें, स्टिल्टेड (नदी/पानीज़मीन- कहीं भी खम्भों पर बनाये गये) घर और शानदार हवा- इस शहर से इश्क़ न हो जाए तो कहियेगा।

This slideshow requires JavaScript.

“फ्र” बोले तो थाई में संस्कृत के “देव”, “नखोन” हुआ “नगर” “सी” शब्द श्री और “अयुथया” शब्द रामायण की अयोध्या नगरी। बोले तो “फ्र नखोन सी अयुथया” हुआ थाई में “देव नगरी श्री अयोध्या”। बोले तो जिस अयोध्या किनारे हम पले बढ़े, जिसकी मिट्टी में पुरखों की राख शामिल है, उस अयोध्या से तमाम समन्दर दूर अपना नाम लेने वाला एक छोटा सा क़स्बा। हाँ, ये क़स्बा हमेशा से छोटा नहीं था- और छोटे कि तो छोड़िये ही, जो 17वीं शताब्दी में दुनिया का सबसे बड़ा शहर था! 10 लाख की आबादी के साथ। जो कभी सियाम साम्राज्य की राजधानी था। जो फिर बर्मा के आक्रमणकारियों द्वारा नेस्तनाबूत कर दिया था। जो बचा था फिर जला दिया गया था। जो अब बताता है कि ज़मींदोज़ होने के बाद इतना बाक़ी है तो जब रहा होगा तो क्या रहा होगा।

यूँ तो अयुथया की आधिकारिक स्थापना 1351 में राजा यू थॉन्ग उर्फ रामाथिबोधि ने की- पर तमाम शिलालेख इशारा करते हैं कि शहर पहले से रहा होगा। और हाँ- रामाथिबोधि से याद आया कि थाईलैंड के राजा अपने को भगवान राम का अवतारा मानते हैं- 2014 में दुनिया बदल जाने के सैकड़ों साल पहले से. 1782 से अभी जो राजवंश चल रहा है वह खुद ही राम 1 से राम 9 तक पहुँच आया है. 1767 में बर्मा के हमलावरों द्वारा पूरा शहर लूट के जला दिए जाने तक बीच में  कंबोडिया से शुरू कर बर्मा तक में प्रभाव रखने वाला बहुत बड़ा शहर रहा.बहुत सारे फॉरेन क्वार्टर्स के साथ- पुर्तगाली, जापानी, फ्रांसीसी-.

खैर, अंगकोर वाट देख चुके होने के बाद मैंने अपनी उम्मीद कम रखी थी- पर आप ये गलती न करियेगा। और अंगकोर वाट माने कंबोडिया  यात्रा में शामिल न हो तो बिलकुल भी नहीं!

एयर होस्टेस ने ‘डिसेंट’ शुरू होने की घोषणा कर दी थी. बैंकाक नीचे दिखने लगा था. अयोध्या के छोरे को थाईलैंड की अयोध्या में पहुँचने में कुछ ही देर बाकी थी- एक नए देश से इश्क़ की शुरआत को भी. उड़ानों की उद्घोषणाएं याद हो आयीं थीं- हम अयुथया, सुफानबूड़ी, कंचनाबूड़ी, हेल फायर पास और पट्टाया होते हुए बैंकॉक जाएंगे- सफर थोड़ा भारी होगा, अयुथया और कंचनाबूड़ी दोनों की कहानी दो बहुत बड़े युद्धों और उनसे भी बड़ी तबाही की कहानी है पर- पहला बता ही दिया और दूसरा थाई बर्मीज रेलवे नाम के उस कहर की जो जापानियों ने दूसरे विश्वयुद्ध में नाज़िल किया था- हो सके तो वो शानदार फिल्म देखियेगा कभी- ब्रिज ऑन द रिवर क्वाई- स्पॉइलर अलर्ट: असल में क्वाई नाम की कोई नदी है नहीं, वो ब्रिज ज़रूर है- उस का नाम दो अलग अलग नदियों का नाम जोड़ के बना दिया था.

पर फिर ये कहानी जीवट की, प्रतिरोध की, संघर्ष की, फिर से उठ खड़े होने की कहानी भी है. आइये आपको साथ घुमाते हैं.

और कभी इधर घूमने की योजना बने तो सलाह ले सकते हैं- मानने न मानने को लेकर कोई ज़िद नहीं है.

ये हुसैनी ब्राम्हणों का देश है रे संघियों, तुम्हारी नफ़रत न चलेगी यहाँ

जी मुहर्रम में हर साल शिया मुसलमान ताज़िये उठाते हैं. कैसा लगेगा अगर आपको बताऊँ मैं कि तमाम ब्राम्हण भी. जी हाँ, ये मुल्क़ पंडितों के ताज़ियों का भी मुल्क़ है. मोहियाल ब्राम्हण। हुसैनी पंडित। हुसैनी ब्राम्हण। हुसैनी पंडित।मोहियाल। जो भी कहिये उन्हें। सच ये कि इमाम हुसैन के लिए जान देने वाली क़तार में वे भी खड़े थे.

कहानियाँ तमाम हैं. जितना सच साफ़ है वो ये कि इमाम हुसैन केलिए कर्बला में लड़ने वालों में ये ब्राम्हण भी थे, मक्का में व्यापार करने वाले पंडित, इमाम हुसैन के भक्त.मक्का उस वक़्त का बड़ा व्यापार केंद्र था सो सारी दुनिया के लोग जाते थे. उन्हीं में से एक थे सिद्ध दत्त।अफगानिस्तान के बड़े इलाके पे राज करने वाले।

पहली कहानी यह है कि उन्होंने अपने सात, जी पूरे 7 बेटों के साथ कर्बला में इमाम हुसैन के लिए क़ुरबानी दी उस कमजर्फ़ यज़ीद की फ़ौज से लड़ते हुए मारे गए।

दूसरी कहानी ये है कि सिद्ध दत्त को जब पता चला कि इमाम हुसैन को यज़ीद की फ़ौजों ने घेर लिया है तब वे अपने सातों बेटे और बाक़ी साथी लेकर भागे- पर इमाम हुसैन को बचा ना पाए! इमाम उनके आने के पहले ही क़त्ल हो चुके थे। पर उन्होंने हार नहीं मानी, हत्यारे यज़ीद की फ़ौज को दौड़ाया- जो इमाम का सर भी लेकर भाग निकले थे और आख़िर में सर वापस हासिल कर लिया, क़ूफा में यज़ीद की फ़ौज से वापस छीन के, पूरी इज़्ज़त से दफ़न को।

कहते हैं कि यज़ीद की फ़ौज ने फिर वापस घेर लिया सिद्ध दत्त को- इमाम हुसैन का सर वापस लेने को। वो जानता था कि दफ़न हुए, तो हमेशा के लिए एक जगह बन जाएगी उसे चुनौती देने वाली! सिद्ध दत्त के 7 बेटे थे। असल कहानी दरअसल शुरू ही यहीं से हुई थी- सिद्ध दत्त को कोई बेटा ना था जब उन्होंने इमाम हुसैन से बेटे की भीख माँगी थी। हुसैन ने उन्हें देखा और कहा कि तुम्हारे नसीब में कोई बेटा है ही नहीं! सिद्ध दत्त गिर पड़े! इमाम को दया आयी। बोले जाओ, एक बेटा होगा! बग़ल में एक मुसलमान खड़ा था- उसने इमाम को ललकारा- आप अल्लाह की मर्ज़ी के ख़िलाफ़ जा रहे हैं! इमाम हुसैन ने पहले उसे देखा फिर तड़पते सिद्ध दत्त को। बोला एक बेटा और दिया। मुसलमान ने फिर ऐतराज़ किया! और ऐसा करते करते इमाम ने सिद्ध दत्त को 7 बेटे दे दिए!

सो यज़ीद की फ़ौज ने क़ूफा में वापस घेरा तो सिद्ध दत्त के पास सातों बेटे थे- कोई रास्ता ना था! पहली माँग पे सिद्ध दत्त ने पहले बेटे का सर काट कर दे दिया!! यज़ीद के लोगों ने कहा ये हुसैन नहीं- सो दूसरे का!! काट के देते गए- सातों बेटों का! इमाम का बचा लिया!! फिर उसे दमस्कस में दफ़नाया! पर इतने भर पे माने नहीं दत्त, लड़ते रहे। वे अमीर मुख़्तार सकाफी की फ़ौज के साथ लदे, तब तक जब तक यज़ीद के गवर्नर ओबैदुल्लाह इब्न ज़ायद को भगा के क़ूफा वापस ना छीन लिया!

सिद्ध दत्त ने उसके बाद अरब छोड़ दिया- सात बेटों की लाश का बोझ बड़ा ना था, इमाम हुसैन की शहादत का दर्द ना संभला उनसे। पर अमीर मुख़्तार ने हाथ पाँव जोड़ के कुछ को रोक लिया-  भूर्या दत्त के नेतृत्व में जो रुके उनके इलाक़े का नाम आज भी दैर ए हिंदिया है- हिंदुस्तान वालों का ठिकाना- क़ूफा, इराक़ में!

कहते हैं कि सुनील दत्त उन्हीं मोहियालों के वंशज थे। ये भी कि मोहियाल आज भी गले पर चीरा लगते हैं, इमाम हुसैन की शहादत याद रखने को। जो भी हो पर इतना तो सच है कि क़ूफा में आज भी दैर ए हिंदिया है!

Al Hindiya.jpg

उस लड़के ने अंगकोर वाट पे सूरज उगते देखा है!

दूसरी बार आए हैं यहाँ- आप्रवासन अधिकारी ने पूछा था।

हाँ, 8 साल बाद- मेरे जवाब पर वो हँस पड़ा था। और मैं सोच रहा था कि ‘स्टेट’ कहीं की हो, सब जानती है! पिछला पासपोर्ट ‘एक्सपायर’ हुए ज़माने हुए, इस वाले में वो वीज़ा नहीं था। फिर भी.


ख़ैर, उतरते जहाज़ से बाहर दिख रहा नज़ारा बता रहा था कि फ़्नोम पेन्ह (या नामपेन्ह? कुछ ख़ास नहीं बदला है। नीचे अब भी सड़कें बहुत कम थीं, मेकांग अब भी उतनी ही विशाल दिखती है, और सामने दिख रहे शहर में बहुमंज़िला इमारतें अब भी गिनी चुनी ही थीं- 2008 की पिछली यात्रा से शायद बस दो तीन ही बढ़ी हों।

कमाल ये कि एयरपोर्ट के बीचोंबीच अब भी एक छोटा सा तालाब है- ठीक वैसे जैसे पिछली बार था- शुक्र है टैक्सीवे के बग़ल, रनवे के नहीं। और हवाई अड्डा अब भी उतना ही छोटा था जितनी पिछली बार, जिसे देख तब भी रायपुर हवाई अड्डा याद आया था! (आज भी नहीं समझ आता कि रायपुर ही क्यों याद आया, कोई और छोटा हवाई अड्डा क्यों नहीं दसियों पर तो उतरा हूँ मैं! और कमाल- हवाई जहाज़ से सामान निकालने के लिए अब भी ट्रैक्टर ही था। अंदर अब भी वैसे व्यस्त नज़र आते अधिकारी थे जैसे व्यस्त केवल आप्रवासन अधिकारी ही नज़र आ सकते हैं। इमिग्रेशन से 10 मीटर से भी कम दूरी में नज़र आती कन्वेयर बेल्ट्स थीं, और अगले 10 में ख़त्म हो जाता अराइवल लाउंज!
हम फिर से कंबोडिया आ पहुँचे थे.

पर एक बड़ा फ़र्क़ था इस बार. वेलकम टू कंबोडिया- स्टैम्प के साथ पासपोर्ट लौटाते हुए इमीग्रेशन ऑफिसर ने कहा था और भागते ख़यालों को पल भर का ब्रेक लग गया था और एक नया सफर शुरू हो गया था!

This is just before the sunrise…   

अबकी बार की यात्रा अंगकोर वाट के लिए थी. उस अंगकोर वाट के लिए जो दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर परिसर है, जिससे पहली मुठभेड़ यूपी बोर्ड की छठवीं की हिन्दी की पाठ्य पुस्तक ज्ञान भारती (या सातवीं की? या आठवीं की?) में हुई थी, जिससे जाना था कि ये भगवान विष्णु के लिए 12वीं सदी में बनाया गया था. भारत के नक़्शे पर धुंधलके भर तक न दिखने वाले पूर्वी उत्तर प्रदेश के उस बड़े से गाँव में पढ़ते हुए तब कुछ नहीं पता था कि ऐसे मंदिर को देखने पर कैसा लगेगा!

तब तो खैर ये भी कहाँ पता था कि भगवन विष्णु के लिए बनाया गया ये मंदिर बढ़ते बढ़ते बौद्ध विहार हो गया था. हाँ, धान और गेंहूं के खेतों के रास्ते स्कूल जाने वाले उस गंवई लड़के तो तब भी ये पता था कि एक दिन उसे अंगकोर वाट देखना ही देखना है. कैसे भी! पर बस, देखना है!

और अब बहुत पतझड़ बाद वो लड़का नाम पेन्ह में खड़ा था- अंगकोर वाट से पहली डेट को तैयार!

लड़का दोपहर की फ्लाइट से उतरा था, देर रात नाम पेन से कुछ 6 घंटे दूर सिएम रीप (या सियाम रीप?) की ‘स्लीपर’ बस लेने को. लड़के के भीतर के शातिर बैकपैकर ने सालों की ऐसी यात्राओं में ऐसे करतब सीख लिए थे जिनसे कम पैसे में ज़्यादा घूमने को मिले। ऐसे की दिन भर वो नाम पेन घूमें जहाँ दशक भर बाद आये थे, और जिससे पहली मुठभेड़ ने उस वामपंथी को भीतर तक हिला दिया था. हाँ- नाम पेन से पहली मुठभेड़ उस लड़के की ‘मेरे नाम में नहीं’ वाले भाव से भी पहली मुलाक़ात थी, इस भाव के सोशल मीडिया पर हैश टैग बन जाने के सालों पहले!

पर इस बार लड़के को अपनी कंबोडिया से डेट को उदास नहीं करना था! इस बार चाओ पोनहिया यात हाईस्कूल, यानी तुओल स्लेंग जनसंहार संग्रहालय, उर्फ एस 21 बनने के पहले के स्कूल का नाम और किलिंग फील्ड्स दोनों को आखिरी दिन के लिए रखना था! पिछली सिहरन अब भी याद जो थी! स्मृति में ठीक-ठीक दर्ज है कि पांवों ने तब उस इमारत में घुसने से इनकार सा कर दिया था, कि खुद को लगभग घसीट कर अंदर घुसना पड़ा था। दिमाग में बस एक बात चल रही थी- न, ये कत्ल हम वामपंथियों के नाम पर किए गए हैं। कि भले हजारों किलोमीटर दूर एक दूसरे देश के वासी सही, इन हत्याओं में हमारी भी भूमिका है! खैर, न जाने कैसे खुद को खींच के में खींच लाने पर पहला स्वागत कब्रों ने किया था। उन लोगों की कब्रों ने जो खमेर रूज सरकार के पतन के चंद रोज पहले मार डाले गए थे।

सो लड़के ने एक बार जोर से सर झटक ज़ेहन को वापस अंगकोर वाट खींच लाने की कोशिश की, जाकर बस कंपनी के ऑफिस में सामान रखा- और फिर निकल पड़ा- वापस उस मेकांग के किनारे घूमने जिसे उसने सालों पहले देखा था, जहाँ गंगा से अपना नाम लेने वाली इस नदी पर उसे अपनी मनवर याद आयी थी! वहाँ से निकल फिर रसियन मार्किट जहाँ रसियन भले ही एक भी न मिलते हों, कंबोडिया खूब मिलता है! उसके बाद रो रो फेरी से (वही जो मोदी गुजरात चुनाव जीतने के लिए लाये थे पर जो चली आज तक नहीं) से सिल्क आइलैंड जाना, वाट नाम (नाम मंदिर) जाना पर इन सब पे बातें अगली किसी पोस्ट में! रात के साढ़े दस बज आये थे, लड़के को सिएम रीप की बस पकड़नी थी.

देखना था कि अंगकोर वाट पर उगते सूरज के जिस दृश्य ने ट्रेवल बुक्स में लाखों पन्ने गला दिए वो सच में उतना शानदार है या फिर ये बस ऐसे ही एक और जुमला निकलेगा! अपनी आँखों से ये देखने का वक़्त आ गया था!

और यकीन करिये, जब देखा तो पलकों ने झपकने से इंकार कर दिया! तिकी रहीं, एकटक! 800 साल से ज़्यादा पुरानी उस भव्य इमारत, दरअसल इमारतों को काले अँधेरे से सुनहली चमक में बदलते देखने के बाद उतना सुन्दर कुछ शायद नहीं ही देखना था! कभी नहीं! या फिर देखना था- है! वापस इसी अंगकोर वाट में किसी रोज़! कहते हैं कि अंगकोर पे हर मौसम में अलग सूरज उगता है. सबसे सुन्दर बारिशों के मौसम में! तब जब सब हरा हो जाता है.

लौट आयेंगे किसी बारिश में फिर, लड़के ने सोचा था!

IMG_9065